राजस्थान पर्यटक गाइड

ओसियन मंदिर जोधपुर

User Ratings:

ओसियन मंदिर एक छोटे से गाँव में जोधपुर शहर से लगभग 65 किमी की दूरी पर उत्तर में स्थित है। ओसियन गांव लगभग 100 नष्ट जैन और हिंदू मंदिरों से सजाया गया है जो यहाँ 8 वीं और 12 वीं सदी से है। ओसियन, थार रेगिस्तान की सीमा रेखा पर जोधपुर-बीकानेर के हाईवे पर स्थित है। इसे 'राजस्थान का खुजराहो' भी कहा जाता है। कहा जाता है कि ओसियन शहर को उत्पलादेवा द्वारा स्थापित किया गया था, जो प्रतिहार राजवंश की राजपूत राजकुमार थे। उन समय, शहर का नाम उकेशा या उपकेशपुर था जो राज्य का एक प्रमुख धार्मिक स्थल था।

कई  वास्तुकला के सुंदर मंदिरों में से केवल 18 तीर्थस्थलों अभी भी अतीत की शाही विरासत सामने दिखाई देती है। इन मंदिरों में सूर्य (सूर्य) मंदिर, हरिहर मंदिर, सचिया माता मंदिर और जैन मंदिर जो भगवान महावीर को समर्पित है, प्रमुख महत्व दिया जाता है। ओसियन को ओसवाल जैन समुदाय का एक प्रमुख तीर्थ स्थल माना जाता है। विनाशकाल में इन मंदिरों को  एक हद तक नष्ट कर दिया गया था, फिर भी इनका आकर्षण लोगों को प्राचीन ओसियन शहर का दौरा करने के लिए अपनी ओर आकर्षित करता है।

ओसियन के मंदिर और वास्तुकला

ओसियन का सूर्य मंदिर पिछले 10 वीं सदी से यहाँ स्थित है। जैसा कि नाम से पता ही चलता है कि यह मंदिर हिंदू भगवान, भगवान सूर्य या सूर्य भगवान को समर्पित है।  जहाँ भगवान सूर्य की अत्यधिक आकर्षक प्रतिमा शामिल है | यात्री इस मंदिर के मुख्य हॉल में भगवान गणेश और देवी दुर्गा की मूर्तियों को भी देख सकते है। मंदिर की छत कमल के फूलों से ओर घूमने वाले सांपों की छवियों से सजी है। जीवन कथाओं  को यहाँ भित्ति चित्रों और शास्त्रों द्वारा दर्शाया गया है | इस मंदिर की संरचना की तुलना रणकपुर के सूर्य मंदिर से की जाती है। सचिया मंदिर हिंदू देवी साची को समर्पित है, जो भगवान इंद्र (रेन गॉड) की पत्नी है। साची माता को इंद्राणी के रूप में भी जाना जाता है साची माता मंदिर की शरुआत  8 वीं शताब्दी में की गई थी, जबकि वर्तमान भौतिक संरचना को 12 वीं शताब्दी के दौरान  बनाया गया था। इस प्राचीन मंदिर में दो और  अन्य मंदिर हैं जो क्रमशः चंडी देवी और अम्बा मां को समर्पित हैं।

मंदिर के अंदरूनी भाग को सुंदर चित्रों और हिंदू देवी दवताओं की मूर्तियों से सजाया गया है। यह प्राचीन मंदिर, मध्ययुगीन वास्तुकला का आदर्श उदाहरण है, जो  देखने योग्य है। ओसियन के अंदर तीन हरिहरन मंदिर है। पहले दो मंदिरों को 8 वीं शताब्दी में बनाया गया था जबकि तीसरे को 9 वीं शताब्दी में बनाया गया था। ये मंदिर जो मध्यकाल से हैं, भगवान शिव और भगवान विष्णु, भगवान हरिहरन को समर्पित है। ये  सभी मंदिर  मूर्तियों के साथ दमकते है जिन्हें  ऊचें स्तर  पर बनाया गया है। ओसियन के अन्य मंदिरों की तुलना में इन मंदिरों की वास्तुकला थोड़ी अलग और उन्नत हैं। महावीर मंदिर 783 ईस्वी में प्रतिहार राजा वत्स ने बनाया था और 24 जैन तीर्थंकर भगवान महावीर को समर्पित किया था। मुख्य मंदिर बलुआ पत्थर से बनाया गया है जिसे काफी उचांई पर रखा गया है। वेदी भगवान महावीर की मूर्ति को घेरता है हॉल के अंदर, तीन बालकनियां वेदी को हवादार बनाती हैं। इसकी अद्घुत वास्तुकला के कारण मंदिर को जैनियों का एक महत्वपूर्ण तीर्थस्थल माना जाता है। मंदिर का मुख्य द्वार पर कन्याएँ बनी हुई है। मुख्य बालकॉनी के सुंदर खंभों के साथ सजाया गया है और बाकि अन्य बालकॉनी में एक स्टाइलिश रूप दिया गया है।

यात्रियों के लिए सूचना

समय– भक्त मंदिर में सुबह से लेकर शाम तक किसी भी समय जा सकते हैं।

स्थान : ओसियन जोधपुर शहर से 65 किलोमीटर की दूरी पर जोधपुर-बीकानेर राजमार्ग पर स्थित है। पर्यटक आसानी से निजी और सार्वजनिक वाहन की मदद से यहाँ पंहुच सकते है।

Osian_Monuments

Osian_Monuments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *