राजस्थान पर्यटक गाइड

नीलकंठ महादेव मंदिर, कुम्भलगढ़

User Ratings:

नीलकंठ महादेव मंदिर कुंभलगढ़ किले के पास स्थित एक प्रसिद्ध शिव मंदिर है। 1458 ईस्वी में निर्मित, इस मंदिर में पत्थर से बना छह फुट बड़ा शिवलिंग है जो भगवान शिव को समर्पित है। भगवान शिव ही इस क्षेत्र के एकमात्र देवता है। पुराणों में कहा गया है कि राजा राणा कुंभ भगवान शिव की और इस शिवलिंग की पूजा करते थे। राजा ने मंदिर में प्रार्थना करते समय अपने बेटे का भी सिर काट दिया था |

राणा कुंभ इतने लम्बें थे कि जब वह प्रार्थना करने नीचे बैठते थे,तब उनकी आंखें शिवलिंग के समानस्तर पर होती थी। नीलकंठ महादेव का मंदिर वेदिक मंदिर के पूर्व में स्थित है। इस मंदिर के प्रवेशद्वार चारों दिशाओं में हैं | इस मंदिर का एक पवित्र स्थान है और एक खुला मंडप है जिसके चारो औरखम्बें है|

पश्चिमी गेट के बाएं स्तंभ पर शिलालेख बताता है कि इसका पुननिर्माण राणा संगा द्वारा किया गयाथा।

गूगल  मानचित्र पर नीलकंठ महादेव मंदिर, कुम्भलगढ़

 नीलकंठ महादेव मंदिर, कुम्भलगढ़ तक कैसे पहुचें

सड़क मार्ग से: नीलकंठ महादेव मंदिर कुंभलगढ़ के पास राजसमंद जिले से और उदयपुर से 101 किमी की दूरी पर स्थित है। जहाँ आसानी से बस या टैक्सी से पंहुचा जा सकता है

रेल द्वारा: नीलकंठ महादेव मंदिर निकटतम फालना और रानी रेलवे स्टेशन से प्रमुख शहरों जैसे दिल्ली, आगरा, मुंबई, चेन्नई, बीकानेर, जोधपुर, जयपुर, अहमदाबाद के रेलवे स्टेशन से भलीभांति जुड़ा हुआ है।

हवाई यात्रा द्वारा : नीलकंठ महादेव मंदिर निकटतम उदयपुर हवाई अड्डे के माध्यम से पहुंचा जा सकता है जो दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, अहमदाबाद, जोधपुर और जयपुर के लिए नियमित डोमेस्टिक उड़ानों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

Neelkanth-Mahadeo-Temple-Kumbhalgarh

Neelkanth-Mahadeo-Temple-Kumbhalgarh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *