राजस्थान पर्यटक गाइड

मेहंदीपुर बालाजी मंदिर –राजस्थान का चमत्कारिक मंदिर

User Ratings:

मेहंदीपुर बालाजी मंदिर दौसा जिले में स्थित राजस्थान के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। यह भगवान हनुमान को समर्पित है यह बुरी आत्माओं या भूतों से प्रभावित लोगों को ठीक करने के लिए प्रसिद्ध है। मंदिर मेहंदीपुर के छोटे से पुराने गांव में स्थित है। यह मंदिर भूत-प्रेत के चंगुल से छुटकारा, कालेजादु और तंत्र-मंत्र विद्या के कारण पूरे देश में प्रसिद्ध है। मंदिरमेंहर रोज बुरी आत्माओं और भूतों के इलाज के लिए हजारों भक्त और यात्री आते है।

मेहंदीपुर बालाजी का इतिहास

पहले यह क्षेत्र एक घना जंगल था, जहां श्री महंतजी के पूर्वजों ने बालाजी की पूजा शुरू कर दी थी। श्री बालाजी मंदिर के पीछे की कहानी के अनुसार  श्री महंत जी के पूर्वजों ने एक भव्य मंदिर के साथ सपने में तीन देवताओं को देखा। उन्हे यह भी एक आवाज सुनाई दी जो उन्हें उनके कर्तव्य को पूरा करने  के लिए  आदेश दे रहा था। अचानक भगवान श्री बालाजी ने उनके समक्ष प्रकट हो गए  और आदेश दिया कि “मेरी  सेवा करने का कर्तव्यभार अपने जिम्मे लो ”

उस घटना के बाद पूर्वजों ने नियमित रूप से पूजा और आरती के साथ भगवन की अर्चना आरम्भ की । एक बार एक दिन कुछ बदमाशों ने देवताकी मूर्ति  को खोदने की कोशिश की लेकिन वे मूर्ति के नीचे तक नहीं पहुंच पाए क्योंकि यह पहाड़ी “कनक भूधराकार शरीर ” का हिस्सा है ।

यह भी माना जाता है कि भगवान श्री बालाजी की मूर्ति की छाती की बाईं ओर से पानी के निरंतर बहने  के कारण देवता के पैरों के पास रखे बर्तन का पानी कभी नहीं सूखता।

मेहंदीपुर का चामात्कारिक  मंदिर

श्री मेहंदीपुर बालाजी मंदिर को शक्तिशाली मंदिर के रूप में जाना जाता है जो  दुष्ट आत्माओं के चंगुल में फंसे व्यक्ति को ठीक करता है। जो लोग घातक आत्माओं और काले जादू से घिरे होते हैं, वे  यहां स्थानीय भाषा में ‘संकट्वाला’ के रूप में लोकप्रिय हैं। मंदिर के ‘महंत’ श्री किशोर पुरी जी, उपचार का विवरण देते हैं। इसमें सख्त और सादे  शाकाहारी आहार के बाद, पवित्र ग्रंथों को पढ़ना  शामिल हो सकता हैं, और यहां तक ​​कि किसी को  शारीरिक पीड़ा भी भुगतनी पड़ सकती  है।

विभिन्न ‘संकट्वालों’ को विभिन्न शारीरिक उपचारों की प्रक्रिया से गुजरना पड़ता हैं जैसे कि उनके दर्द को कम करने के लिए शरीर पर बाहों, पैरों और छाती पर भारी पत्थर रखना । कुछ लोग सुलगते उपलों पर रखे मीठे बतासों के धुंए को अपनी सांसों में भर रहे होते हैं। उनमे से कुछ  गंभीर मामले, जो आत्मा के चंगुल में फंसे हैं और हिंसक हो जाते हैं, को बेड़ियोमें जकड़ा जाता हैं।

यात्रियों के लिए सूचना

श्री मेहंदीपुर बालाजी मंदिर के दर्शन का  सबसे अच्छा समय: त्योहार के समय (होली, हनुमान जयंती और दशहरा  आदि) में ज्यादातर लोग  मेहंदीपुर बालाजी मंदिर के दर्शन के लिए जाते  है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि यह दुष्ट आत्मा से मुक्त होने का सबसे शुभ समय है। मेडिकल साइंस ऐसे अंधविश्वास को जो स्वयं को धोखा देने के  अलावा और कुछ नहीं है, नहीं मानती, लेकिन अंधभक्तों का विश्वास पक्का है

मेहंदीपुर बालाजी मंदिर तक कैसे पहुंचे: श्री मेहंदीपुर बाललाई मंदिर जयपुर आगरा राजमार्ग पर राजस्थान के दौसा जिले में स्थित है। यह दिल्ली से 270 किमी और जयपुर से 100 किमी दूर है। जयपुर-आगरा राजमार्ग पर नियमित बसें हैं दिल्ली से, यात्रा अलवर-मह्वा या मथुरा-भरतपुर -महावा सड़क पर किया जा सकता है। बांदीकुई रेलवे स्टेशन मेहंदीपुर बालाजी मंदिर के निकटतम रेलवे स्टेशन है।

मेहंदीपुर बालाजी मंदिर समय: गर्मियों में 9.00 बजे और सर्दियों में 8.00 बजे तक

Mehandipur-Balaji-Temple

Mehandipur-Balaji-Temple

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *