राजस्थान पर्यटक गाइड

जगदीश मंदिर, उदयपुर

User Ratings:

जगदीश मंदिर उदयपुर, उदयपुर का एक इंडो-आर्यन शैली वास्तुकला से बना मंदिर है। यह मंदिर महाराणा जगत सिंह द्वारा 1651 में बनाया गया था। उस अवधि (1628-53) के दौरान वे उदयपुर के शासक थे। "जगदीश" भगवान विष्णु के कई नामों में से एक नाम है और यह मंदिर भगवान विष्णु (लक्ष्मी नारायण) को समर्पित है जो उदयपुर में सबसे बड़े मंदिरों में से एक है।

जगदीश मंदिर की वास्तुकला

जगदीश मंदिर की वास्तुकला बहुत शानदार है और इसका मुख्य द्वार  शहर के बरपोल से आसानी से दिखता है  जो केवल 150 मीटर की दूरी पर स्थित है । इस तीन  मंजिला मंदिर में पतले नक्काशीदार खम्बें, खूबसूरती से सजाई गयी छतें,  रंगीन दीवारे, और आलीशान हॉल है। माना जाता है कि उस समय इसे बनाने के लिए लगभग 1.5 मिलियन रूपये की लागत लगी थी। इस  मंदिर की  79 फीट ऊंची मीनार  उदयपुर का  क्षितिज है। जगदीश मंदिर मुख्य मंदिर मीनार को नृतकी, हाथी, घोड़े और संगीतकारों से सजाया गया है|

मंदिर के प्रवेश द्वार सबसे पहले  पत्थर से बने दो हाथी है, एक पत्थर की पट्टी  पर  महाराजा जगत सिंह के संदर्भ में शिलालेख हैं। मंदिर के  मुख्य द्वार तक  संगमरमर से 32 कदमो के निशान बने हुए है | पीतल से बनी  गरुड़ की मूर्ति  जो वास्तव में आधे- मनुष्य  और आधे-चील  की आकृति, ऐसे दर्शाती है  जैसे कि वह भगवान विष्णु रक्षा कर रहे हो।

जगदीश मंदिर के अंदर चार भुजाओं  वाले भगवान विष्णु की एक शानदार मूर्ति है। जो पूर्ण रूप से   काले पत्थर के टुकड़े से बनाई गई है यह मूर्ती अपने पवित्र और दिव्य रूप से  सभी को अपनी ओर आकर्षित करती  है इस स्थान पर  चार और  छोटे मंदिर हैं जो मुख्य मंदिर के चारो ओर है। यह  मंदिर भगवान गणेश, सूर्य देव, देवी शक्ति और भगवान शिव को क्रमशः समर्पित हैं।

यहाँ अन्य कलात्मक वास्तुकला हैं जो प्रसिद्ध और आकर्षक हैं जिसमे  पिरामिड  के सामान शिखर, मंडप (प्रार्थना कक्ष) और एक पोर्च सभी में  शानदार है । मंदिर की पहली और दूसरी कहानी हर 50 स्तंभों के बारे में बताती  है जिन  सभी पर  शानदार नक्काशी  की गयी है और  जो इस मंदिर के सौंदर्य को और बढ़ाते  है। जगदीश मंदिर हिंदू वास्तुकला विज्ञान  वास्तुशास्त्र द्वारा भी बनाया गया है|

हर साल दूर-दूर से लोग यहाँ भगवान के दर्शन करने आते है|

यात्रियों के लिए सूचना

जगदीश मंदिर समय: 4.15 से  – 1.00 बजे तक (सुबह)/ 5.15 बजे- 8.00 बजे तक  (शाम)। सभी दिन खुला रहता है |

जगदीश मंदिर का स्थान: जगदीश मंदिर उदयपुर के सिटी पैलेस परिसर के अंदर स्थित है। जहाँ परिवहन की मदद  से आसानी से पहुंचा जा सकता है। उदयपुर सड़क, रेल और वायु से भलीभांति  जुड़ा हुआ है।

Jagdish-Temple-Udaipur

Jagdish-Temple-Udaipur

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *