राजस्थान पर्यटक गाइड

दिलवाडा जैन मंदिर – माउन्ट आबू का सबसे सुंदर तीर्थस्थल

User Ratings:

दिलवाड़ा जैन मंदिर विश्व में जैनियों का सबसे सुंदर और पवित्र तीर्थस्थान है। जो माउंट आबू, राजस्थान से सिर्फ 2.5 किमी की दूरी पर स्थित है| दिलवाड़ा मंदिरों, माउंट अबू की खूबसूरती को दर्शाता है जो राजस्थान के एकमात्र हिल स्टेशन है। दिलवाड़ा मंदिर अपनी उत्कृष्ट वास्तुकला और संगमरमर नक्काशियों के अविश्वसनीय काम के लिए जाना जाता है। कुछ विशेषज्ञों का मानना ​​है कि दिलवाड़ा मंदिर की वास्तुकला ताजमहल की वास्तुकला की तुलना में बेहतर है।

दिलवाड़ा जैन मंदिर का इतिहास

11 वीं और 13 वीं शताब्दी के बीच चकुल्या वंश द्वारा निर्मित, दिलवाड़ा जैन मंदिर बाहर से दिखने में  सरल और सामान्य है लेकिन इसका प्रवेश द्वार का अद्भुत काम इसकी वास्तुकला की सर्वश्रेष्ठता को दर्शाता है। इसके चारो ओर हरीभरी पहाड़ियाँ है| इसकी छतें, दरवाजों, खंभे और पैनलों ने बारीकी से नक्काशी की गयी है जो इसकी विशिष्ट वास्तुकला को दर्शाती हैं। यह भी ध्यान देना महत्वपूर्ण है कि उस समय 1200 मीटर ऊँचाई पर संगमरमर के ऐसे बड़े ब्लाकों के लिए परिवहन की कोई सुविधा नहीं थी। हाथियों द्वारा अंबुरियों की अरसुरी पहाड़ियों से माउंट आबू तक संगमरमर को लेकर जाया जाता था।

दिलवाड़ा जैन मंदिर की वास्तुकला

 दिलवाड़ा जैन मंदिर

दिलवाड़ा मंदिर की शानदार वास्तुकला (फोटो क्रेडिट : माउथशट.कॉम)

दिलवाड़ा के पांच अद्भुत मंदिर

दिलवाड़ा मंदिर परिसर में पाँच अलग अलग मंदिर है जिनमें से प्रत्येक पाँच जैन त्रिथंकरस (संत) को समर्पित हैं।

श्री महावीर स्वामी मंदिर – यह जैन मंदिर भगवान महावीर को जैन के 24 वें तीर्थंकर को समर्पित है। यह 1582 में बनाया गया था। यह अन्य जैन मंदिरों के अपेक्षा एक छोटा मंदिर है। इसकी दीवारों पर  शिल्पकारिता का सिरोही से चित्रित की गयी पोर्च चित्रों का शानदार काम है | यह शानदार काम 1764 में किया गया था।

श्री आदीनाथ मंदिर या विमल वासही मंदिर – अन्य सभी मंदिरों में सबसे पुराने मंदिर में से एक है और पहले जैन तीर्थंकर श्री आदित्य जी को समर्पित है। यह 1031 ईस्वी में गुजरात के सोलानिका शासक के  मंत्री विमल शाह द्वारा बनाया गया था। मंदिर के अंदर जैन संत के छोटे चित्र हैं जो संगमरमर पर सूक्ष्म कला नक्काशी का विशिष्ट कार्य है। मंदिर के बाहर, एक खुला आंगन है, जिसके चारो ओर गलियारे  है, जो सुंदर नक्काशीदार संगमरमर के पत्थरों द्वारा सजाया गया है।मंदिर के अंदर एक विशाल मंडप है जिसे आदिनाथ के चित्रों से सजाया गया है|

श्री परशनाथ मंदिर या खरतर वसाही मंदिर – यह   सभी दिलवाड़ा मंदिरों के सबसे बड़ा मंदिर है। जिसमे चार बड़े मंडप है| मंदिर 1458-59 ईस्वी के बीच मंडिका कबीले द्वारा बनाया गया था। इस मंदिर में स्तंभों पर संगमरमर की अद्भुत नकाशियाँ भी हैं।

श्री ऋष्बदेउ मंदिर पिठालाहार मंदिर – श्री ऋष्बदेउ जी मंदिर गुजरात राजवंश के मंत्री भीम शाह द्वारा बनाया गया था। इस मंदिर को पिट्ठलारी पीठ्लाधर के रूप में जाना जाता है क्योंकि इस मंदिर की सभी मूर्तियों में ‘पित्तल’ (पीतल धातु ) का इस्तेमाल किया गया था। इसमें गुडू मंडपा और नवचौकी भी हैं

श्री नेमी नाथजी मंदिर या लुना वसाही मंदिर – यह मंदिर जैन धर्म के 22 वें संत को समर्पित है – श्री   नीमी नाथजी । यह   1230 इसवी में तेजपाल और वास्तुपाल नामक दो भाइयों द्वारा निर्मित किया गया था। श्री नेमी नाथजी की काले संगमरमर की मूर्ति, में जैन त्रिथंकर की बारीकी से बनी 360 छोटी मूर्तियों के साथ एक रांग मंडपा नामक हॉल में रखी गयी है जो देखने में अद्भुत है। इस मंदिर के खंभों का निर्माण मेवाड़ के महाराणा कुंभ द्वारा किया गया था।

दिलवाड़ा जैन मंदिर

यात्रियों के लिए सूचना

दिलवाड़ा जैन मंदिर समय : दिलवाड़ा जैन मंदिर जैन भक्तों के लिए 6 बजे से दोपहर तक और दोपहर से 6 बजे तक पर्यटकों के लिए खोला जाता है और मंदिर परिसर के अंदर फोटोग्राफी की अनुमति नहीं है।

दिलवाड़ा मंदिर का स्थानः दिलवाड़ा मंदिर माउंट आबू 2.5 किमी ) से  सड़क के माध्यम से आसानी से पहुँचा जा सकता हैं।

यह राजस्थान के सिरोही जिले, में स्थित है। यह आबू रोड़ से सिरोही और पाली के जरिए जोधपुर ( 264 किमी ) से भलि – भाति जुड़ा हुआ है। इसका

निकटतम रेलवे स्टेशन आबू रोड से 29 किमी की दूरी पर है और निकटतम हवाई अड्डा उदयपुर ( 185 किमी ) है।

दिलवाड़ा जैन मंदिर

दिलवाड़ा जैन मंदिर

दिलवाड़ा जैन मंदिर, माउंट अबू राजस्थान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *