राजस्थान पर्यटक गाइड

चामुंडा माता मंदिर, जोधपुर

User Ratings:

जोधपुर का चामुंडा माता मंदिर, चामुंडा देवी का मंदिर है,  जो शाही परिवार के इष्ट देवी है। यह मेहरानगढ़ किले के दक्षिणी भाग में स्थित है। जोधपुर शहर के संस्थापक राव जोधा ने 1460 में मंदोरे की पुरानी राजधानी से अपनी प्रिय देवी चामुंडा की मूर्ति खरीदी थी। उन्होंने मेहरानगढ़ किले में चामुंडा देवी की मूर्ति को स्थापित किया था और तब से चामुंडा यहाँ देवी बन गयी थी। जोधपुर शहर के बाहर और अंदर से आने वाले लोगो द्वारा पूजा की जाती है, दशहरा के समय, किला लोगों और भक्तों से बहर जाता है।

चामुंडा माता मंदिर का इतिहास

मेहरानगढ़ किले जोधपुर में स्थित, मंदिर राव जोधा द्वारा उस समय बनाया गया था जब वह किले का निर्माण कर रहे थे। वह पहाड़ी जहां उन्होंने इस किले का निर्माण करने के लिए चुना था वह हरमीत भट्ट द्वारा अधिकृत किया गया था | उनको वह से निकल दिया दिया था जिस कारण उन्होंने राजा को  श्राप दिया कि उनके किले में हमेशा पानी की कमी रहेगी।

संत ने इस श्राप से बचने के लिए  और उससे लोगों की रक्षा करने  के लिए किले के अंदर चामुंडा माता का मंदिर बनाया। और तभी से देवी चामुंडा राजपूतों की मुख्य देवी है।

चामुंडा माता मंदिर, जोधपुर

चामुंडा माता मंदिर, जोधपुर तक कैसे पहुंचे

रोड से : चामुंडा माता मंदिर मेहरानगढ़ किले में जोधपुर शहर के बाहरी इलाके पर स्थित है। जहाँ आसानी से बस या टैक्सी द्वारा पहुंचा सकता है।

रेल द्वारा : चामुंडा माता मंदिर निकटतम जोधपुर रेलवे स्टेशन से बड़े शहरों जैसे दिल्ली, आगरा, मुंबई, चेन्नई, बीकानेर, जोधपुर, जयपुर, अहमदाबाद के रेलवे स्टेशनों से जुड़ा हुआ है।

हवाई यात्रा द्वारा : चामुंडा माता मंदिर निकटतम जोधपुर हवाई अड्डे (6 किमी ) से पहुंचा जा सकता है जो अच्छी तरह से दिल्ली, मुंबई के लिए नियमित डोमेस्टिक उड़ानों से जुड़ा हुआ है।

जोधपुर के चामुंडा माता मंदिर के बारे मे जाने

चामुंडा माता मंदिर, जोधपुर

चामुंडा माता मंदिर, जोधपुर

चामुंडा माता मंदिर, जोधपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *