राजस्थान पर्यटक गाइड

ब्रह्मा मंदिर, पुष्कर

User Ratings:

पुष्कर का ब्रह्मा मंदिर, राजस्थान के पुष्कर शहर में भगवान ब्रह्मा को समर्पित सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है और पुष्कर शहर में कुछ ही मंदिर है जो भगवान ब्रह्मा के है | पुष्कर ब्रह्मा मंदिर की गहरी धार्मिक श्रद्धाहै और हजारों भक्त मंदिर में विराजमान कई देवी -देवताओं की पूजा करने आते है| पुष्कर शहर में इस पुष्कर मंदिर के साथ - साथ 500  और अधिक मंदिर हैं। यह मंदिर भगवान ब्रह्मा को समर्पित है जो दुनिया का एकमात्र ब्रह्मा मंदिर है। हालांकि मंदिर की संरचना को 14 वीं शताब्दी से हैं लेकिन माना जाता है कि यह लगभग 2,000 साल पुराना है।

पुष्कर ब्रह्मा मंदिर का इतिहास

पद्मा पुराण के अनुसार, पुष्कर मंदिर के पीछे यह कहानी है भगवान ब्रह्मा यज्ञ करने के लिए एक उचित स्थान ढ़ूढ़ रहे थे, तब उनके हाथ में धारण किया हुआ कमल का फूल नीचे धरती पर गिर जाता है। चमत्कारिक रूप से जहाँ पर कमल गिरा था वह से एक झील निकलने लगती है और ब्रह्मा उसे यज्ञ करने का उचित स्थान मान लेते है और उस शहर का नाम हिंदी में एक फूल के रूप में  ‘पुश’ और हाथ ‘कर’ का नाम दिया है, जिस प्रकार उस स्थान का नाम पुष्कर पड़ा |  लेकिन जब उनकी पत्नी सरस्वती ने उनके साथ आने से मना कर दिया, तब उन्होंने कुवारी कन्या गायत्री से शादी की और इस यज्ञ को पूरा किया, इस बात का पता चलने पर क्रोधित सरस्वती ने ब्रह्मा को श्राप दिया कि आज से  पुष्कर स्थान को छोडकर उनकी पूजा पृथ्वी के किसी एनी स्थान पर नहीं की जाएगी |

वास्तुकला और मेला

मंदिर 14 वीं शताब्दी में पुष्कर झील के तट पर बनाया गया था। पुष्कर मंदिर  में चारो ओर शानदार वातावरण है। एक उच्च स्थान पर निर्मित, इसमें संगमरमर से पैरो के निशान,  प्रवेश द्वार पर एक हंस (हंस – ब्रह्मा जी का वाहक ) है जिसके  ताज में लाल नीलमणि लगी है| इसमें एक सुंदर नक्काशीदार चांदी का कछुआ भी है जिसका मुख पवित्र चिकित्सालय  की तरफ है। इस मंदिर में भगवान ब्रह्मा की एक चार मुखी मूर्ति है जो बहुत शानदार है।

अक्टूबर -नवंबर के महीने में कार्तिक पूर्णिमा ( पूर्ण चाँद ) के दौरान , पुष्कर मंदिर हजारों भक्तों की भीड़ होती है  क्योंकि यह वाही समय है, जिसके दौरान ब्रह्मा ने पुष्कर में अपनी यज्ञ किया था। पुष्कर झील के पवित्र पानी में डुबकी और जगत पिता के आगे सिर झुकाना, भगवान ब्रह्मा का हिंदू संस्कृति में अपना ही अलग  महत्व है यह वह भी समय है जब सोये हुए पुष्कर में एक उत्सव और उमंग जीवित हो जाती है।

ब्रह्मा मंदिर की सूचना

ब्रह्मा मंदिर तक कैसे पहुंचे : पुष्कर मंदिर अजमेर शहर से 10 किमी दूर स्थित है। अजमेर  शहर सड़क मार्ग और रेल से  भली -भांति जुड़ा हुआ है। इसका  निकटतम हवाई अड्डा जयपुर ( 131 किमी ) है। और जयपुर दिल्ली से 391 किमी दूर है।

ब्रह्मा मंदिर पुष्कर का समय : सर्दियों के दौरान अपराह्न 6:30 और 8:30 और गर्मियों में अपराह्न   6:00 से 9:00 बजे। मंदिर में तीन बार आरती की जाती है : संध्या आरती – शाम के समय में सूर्यास्त से करीब 40 मिनट बाद, रात्रि शयन आरती – लगभग सूर्यास्त से 5 घंटे बाद और मंगला आरती – सूर्योदय से 2 घंटा पूर्व|

ब्रह्मा मंदिर के दर्शन कीजिए

पुष्कर का ब्रह्मा मंदिर

पुष्कर का ब्रह्मा मंदिर

पुष्कर का ब्रह्मा मंदिर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *