राजस्थान पर्यटक गाइड

भांड देवरा मंदिर

User Ratings:

राजस्थान एक अद्भुत जगह है और यहाँ कई अनोखी चीजें हैं जिन्हें आप यहाँ देख सकते हैं| कई जगहों, महलों, किलों और वस्तुकलाओ के साथ-साथ यहाँ के नगरों और जिलों में बड़ी संख्या में कई मंदिर भी फैले हुए है और इन मंदिरों के यहाँ होने से, राजस्थान एक तीर्थयात्रा की अच्छी जगह बन जाती है।

भांड देवरा मंदिर या भांड देवा मंदिर, भगवान शिव को समर्पित राजस्थान का एक प्राचीन मंदिर है, परन्तु यह खासकर अपनी विशिष्ट वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध है क्योंकि मंदिर की वास्तुकला और नक्काशी के कारण इसे’ राजस्थान के खजुराहो भी माना जाता है। भांड देवा मंदिर बरन शहर में स्थित रामगढ़ गड्ढा के मध्य भाग में एक तालाब के तट पर सुंदर रूप से बसा हुआ है, और माना जाता है कि यह संभवतः एक उल्का द्वारा बनाया गया था । बरन जिला कोटा में स्थित है और इसका एक गहरा इतिहास है जो इस मंदिर के भक्तों को अपनी और अधिक से अधिक खिचंता है।

भांड देवरा मंदिर का इतिहास

माना जाता है कि यह मंदिर 10 वीं शताब्दी में बनाया गया था और यह मंदिर रामगढ़ पहाड़ियों के पहाड़ी इलाकों में स्थित है। यहाँ शिव मंदिर सहित दो अन्य मंदिर भी हैं, जो देवी अन्नपूर्णा और देवी किसनई को समर्पित हैं। मंदिर एक गुफा के अंदर स्थित है और यात्रियों को मंदिर में प्रवेश लेने के लिए 750 सीढ़ियों चढ़नी पड़ती हैं जो झाला जालिम द्वारा बनाई गई थी, जिन्हें जालिम सिंह के नाम से भी जाना जाता था और वह 1771 से ब्रिटिश शासन आने तक झलावार राज्य का शासक था| वर्तमान में यह मंदिर को राजस्थान सरकार के राज्य पुरातत्व विभाग द्वारा संरक्षित किया जाता है कार्तिक पूर्णिमा के दौरान मंदिर में भव्य आयोजन किया जाता है और दोनों देवियों की पूजा के अवसर पर एक भव्य आयोजन किया जाता है।

भांड देवरा मंदिर, राजस्थान

भांड देवरा मंदिर, राजस्थान

भांड देवरा मंदिर, राजस्थान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *