राजस्थान पर्यटक गाइड

आंदेश्वर पर्वश्वनाथ जैन मंदिर, राजस्थान

User Ratings:

आंदेश्वर पर्वश्वनाथ जी एक प्रसिद्ध जैन मंदिर हैं जो कुशलागढ़ तहसील की एक छोटे पहाड़ी पर स्थित हैं यह मंदिर 10 वीं शताब्दी से कुछ शिलालेख रखी हैं है। इस जगह पर दो दिगंबर जैन परश्वनाथ मंदिर भी हैं। मुख्य मंदिर कुशलगढ़ के दिगंबर जैन पंचायत द्वारा बनाया गया था। भगवान पार्श्वनाथ की मुख्य मूर्ति सात छत्रों द्वारा संरक्षित की जा रही है।

आंदेश्वर बंसवारा से लगभग 40 किमी दूर स्थित एक प्रसिद्ध जैन मंदिर है। मंदिर का मुख्य आकर्षण भवन पार्श्वनाथ जी की मूर्ति है जो 12 वीं या 13 वीं शताब्दी से हैं। भगवान पार्श्वनाथ की काले रंग की मूर्ति 80 सेमी लम्बी है जो 7 छत्रों से ढकी हुई हैं । माना जाता है कि इसे उस क्षेत्र के आदिवासियों द्वारा खेती करते समय खोजा गया था । हर साल कार्तिक पूर्णिमा अर्थात हिंदी माह कार्तिक के पन्द्रवे चंद्र दिन पर, एक मेला आयोजित किया जाता है जिसमे पास के कस्बों और गांवों के लोग आते है|

आंदेश्वर पर्वश्वनाथ जैन मंदिर का इतिहास

एक आदिवासी किसान को पर्वश्वनाथ की मूर्ति खेत में मिली थी। मूर्ति को निकलकर वही पर इस मंदिर को स्थापित किया गया था। इसलिए कई गैर जैन समाज के लोग भी यहां पूजा करने आते हैं। भक्त दूर दूर से ‘मनस्तंभ’ और ‘कांच मंदिर’ (दर्पण के साथ सजाए गए मंदिर) देखने यहाँ आते है।

राजस्थान का प्रसिद्ध आंदेश्वर पर्वश्वनाथ जैन मंदिर

आंदेश्वर पर्वश्वनाथ जैन मंदिर, राजस्थान

आंदेश्वर पर्वश्वनाथ जैन मंदिर, राजस्थान

आंदेश्वर पर्वश्वनाथ जैन मंदिर, राजस्थान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *