राजस्थान पर्यटक गाइड

बाबा रामदेव जी रामदेवरा मेला

User Ratings:

बाबा रामदेव जी की मृत्यु के पश्चात से रामदेवरा मेला आयोजित किया जाता है, जो एक तंवर राजपूत और एक संत थे। उन्होनें 1458 इस्वी में "समाधि" ले ली, जो नश्वर शरीर से निकास की प्रक्रिया है। यह मेला एक बहुत बड़ा मेला है, जो भादो सुदी 2 से भादो सुदी 11 यहाँ आयोजित किया जाता है। यह अगस्त से सितंबर के महीने में लगता है। रामदेवरा मेला में हज़ारों भक्त दूर-दूर से बड़े-बड़े समुहों में आते हैं। उनकी जाति, पंथ या धार्मिक जुड़ाव के बावजूद, ये भक्त संत को समर्पित तीर्थस्थल में इकट्ठा होते हैं। ये समुह बाबा को श्रद्धांजलि देने के लिए आते है और रातभर भजन और किर्तन का आयोजन करते हैं।

बाबा राम देव जी का इतिहास

रामदेव पीर, रामदेवजी, रामदेव पीर, रामशा पीर,  के नामों से जाए जाने वाले  बाबा राम देव जी एक शासक थे और  तनवर राजपूत थे जिसे भगवान विष्णु के अवतार के रूप में माना जाता है। बाबा रामदेव जी राजा अजमल के पुत्र थे। राजा अजमल निर्धन थे जिस कारण वह द्वारका गए और भगवान कृष्ण से प्रार्थना की कि वे  उन्हे उनके जैसे दो पुत्र दें। उसके बाद राजा के दो बेटे विरामदेव और छोटे रामदेव हुए थे। वह चमत्कारिक शक्तियों के लिए जाने जाते थे जो राजस्थान में काफी प्रसिद्ध था।

उन्हे रामशपिर  क्यों कहा जाता है

समय के साथ-साथ बाबा रामदेव जी की प्रसिद्धि पूरे विश्वभर में हो गयी। वे हिंदु, जो मुगल काल में मुसलमानों में परिवर्तित किये गये थे वे फिर से हिन्दूओं में परिवर्तित होने लगे। इन स्थितियों को देखते हुए 5 पीरों के प्रतिनिधित्व कई मुस्लिमानों के साथ रूनीचा में  बाबा रामदेव जी की परीक्षा लेने आए। जब मुल्तान के 5 पीर आए तो उन्होंने उनका स्वागत किया और एक महान आतिथ्य दिया। भोजन के समय पीर ने बाबा रामदेवजी से कहा कि वे केवल अपने स्वयं के बर्तन में खाना खाते हैं जो मुल्तान में छोड़ आये हैं। इस पर रामदेवजी ने अपना दाहीना हाथ बढ़ाया और उनके सभी बर्तन वहाँ आ गए।

इसे देखकर मुल्तान के सभी 5 पीरों ने उन्हे आशीर्वाद दिया और घोषणा की कि वह सारी दुनिया में रामशापीर, रामपुरी या हिंदवपीर के नाम से जाने जाएंगे। तब से रामदेवजी को भी रामशापीर के रूप में जाने गए। तब से बाबा रामदेव रामशपीर के रूप में  मुस्लिमों के रूप में भी माने गये है।

रामदेवजी मंदिर में रामदेवरा मेला

बीकानेर के महाराजा गंगा सिंह ने 1931 ईस्वी में ‘समाधि’ के पास एक मंदिर का निर्माण किया। रामदेवरा मेला रनीचा रामदेवरा में आयोजित किया जाता है जिसमें विश्वभर के सभी जगहों से हजारों श्रद्धालु उपस्थित होते हैं। यह अगस्त और सितंबर के बीच भदों सुदी 2 (बीजे) से 11 (एकादशी) तक आयोजित किया जाता है। भक्त, जाति, पंथ या धार्मिक जुड़ाव के बावजूद रामपीर के मंदिर में आते है वे भजन और भक्ति गायन गाते हुए उनको श्रद्धांजली देते है।

बाबा राम देव जी सभी उच्च और निम्न, अमीर और गरीब दोनों की समानता पर विश्वास करते थे। उन्होंने नीचले वर्ग को  इच्छाओं को पूर्ण करके उनकी मदद की।  रामदेवरा स्थान का नाम बाबा रामदेव के नाम पर रखा गया है और मुसलमान भी रामदेव जी को बहुत सम्मान के साथ श्रद्धांजलि अर्पित करते है।

मंदिर में भक्तों द्वारा चावल, नारियल, चुरा और लकड़ी के घोड़े रामदेव जी को चढ़ाए  जाते हैं।

रामदेवरा मेला 2018 तिथि – : यह भादो सुदी 2 (बीज) से 11 (एकादशी) (अगस्त से सितंबर के महीनों में)  आयोजित किया जाता है।

रामदेवरा मंदिर में आरती का समय क्रमश: 5.00 बजे, 9.00 बजे, 7.00 बजे, और 10.00 बजे।

पता: श्री रामदेवजी मंदिर, एटी पोस्ट रामदेवरा 345023, जिला जैसलमेर, राजस्थान, भारत

Baba-Ramdevji-Temple

Baba-Ramdevji-Temple

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 Responses to “बाबा रामदेव जी रामदेवरा मेला”

Sandeep Says

This temple is famous in all india here come all relisons people this so beautiful and largest temple jai ho Ramdev peer g ki

Ghansyamsinh Says

Jay babari