राजस्थान पर्यटक गाइड

गोगाजी मेला

User Ratings:

गोगाजी मेला गोगाजी की स्मृति में मनाया जाता है जिसे साँपों  के राजा के रूप में माना जाता था। गोगाजी को जहर वीर गोगा भी कहा जाता है जो भारत के राजस्थान के  एक आदर्श थे। वह इस क्षेत्र के एक युद्धवीर थे, जिन्हे एक संत और एक ‘सांपों के देवता’ के रूप में मान्यता प्राप्त थी। गोगाजी या जहर पीर, सांप-राजाओं में से एक और चौहान राजपूत का राजस्थान में गंगानगर के पास एक साम्राज्य था

Gogaji Dham1

वह मेला गोगाजी की पूजा के लिए प्रेरित है जो हिन्दू कैलेंडर के भाद्र माह में शुरू होता है। गोगाजी का  यह भव्य मेला उनके जन्मस्थल  और स्माधी स्थल पर आयोजित किया जाता है, जिसे गोगमदी कहा जाता है। राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में, गोगामदी जयपुर से थोड़ी दूरी पर स्थित है।  माना जाता है कि गोगाजी  ने गोगामदी में समाधि ली थी। हजारों श्रद्धालु हर साल भद्रा के महीने में इस स्मारक स्थल पर श्रद्धांजलि अर्पित करने आते हैं जो गोगाजी मेले के दौरान अगस्त और सितंबर के बीच 3 दिन तक चलता है। मेले का आयोजन भद्र की अमावस्या के नौवें दिन से किया जाता है, जिसे गोगा नवमी के रूप में भी जाना जाता है, जो उसी माह की अमावस्या के ग्यारहवें दिन तक रहता है। इसके मुख्य प्रवेश द्वार पर फारसी में लिखे शिलालेख  महमूद के गजनी का गोगोजी के प्रती आदर को वर्णित करता है। ड्रम पर धुन पर लोगों को नाँचते और गाते  हुए अकसर देखा जाता है और गोंग पर लगे रंगीन  झंडों  को उनके हाथों की निशानी का रूप कहा जाता हैं।

गोगाजी के जीवन पर आधारित  गीत और भजनों को एक साथ पारंपरिक यंत्रो जैसे डमरू, चिमटा जैसे को साथ बजाया जाता है, जो बड़े पैमाने पर श्रोताओं को आकर्षित करता है। उनके जन्मस्थान दद्रेवा में मेला एक महीने से अधिक तक चलता  है। यहाँ लोगों को उनकी गर्दन पर साँप लपेटे हुए देखा जाता है। भक्तों का यह विश्वास है कि गोगजी उन्हें सांपों से बचाकर रखेंगे। उनके जन्मस्थान दाद्रेवा में और आसपास के लोक कथाओं के अनुसार यह माना जाता है कि अगर कोई भी जोहर की  डंडी को पकड़ लेगा (जो एक बंजर भूमि पर एक  पवित्र तालाब है तो वह साँप बन जाएगा। गोगा के भक्त साँप के काँट लेने पर उनकी  पूजा करते हैं और पवित्र राख और भभूत को दवाई तौर पर इस्तेमाल करते हैं।



Gogaji-Fair

Gogaji-Fair

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *