राजस्थान पर्यटक गाइड

चंद्रभागा मेला

User Ratings:

चन्द्रभागा मेला हर साल अक्टूबर और नवंबर के बीच राजस्थान में झलरापतन में आयोजित किया जाता है यह मेला चंद्रभागा नदी को समर्पित है और इसे राजस्थान के लोगों द्वारा पवित्र माना गया है। कार्तिक या कार्तिक पूर्णिमा के महिने में पूर्णिमा के दिन हजारों भक्त इस पवित्र नदी में डुबकी लगाते हैं।

चन्द्रभागा मेला राजस्थान की परंपरा को दर्शाता है। यहाँ का लोक संगीत हर किसी को मंत्रमुग्ध कर देता है और मेले में खरीदारी करने के लिए शिल्पकारी  का सामान अच्छा हैं। कार्तिक माह के आखिरी दिन एक विशाल मवेशी मेला भी आयोजित किया जाता है जो पूरे भारत के हजारों तीर्थयात्रियों को अपनी ओर आकर्षित करता है। यह मवेशी मेला धार्मिक पहलुओं के साथ-साथ व्यापार के लिए भी आयोजित किया जाता है जहाँ भैंस, गाय, ऊंट, घोड़ों और बैल  जैसे पशुओं को लाया जाता है। महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश जैसे दूर के इलाकों से व्यापारी यहां आते हैं और इन जानवरों के व्यापार में हिस्सा लेते हैं।

यह मेला पर्यटकों को भी आकर्षित करता है, जिन्हें यहाँ के स्थानीय लोगों से आपस में बातचीत करने और खुद को अपनी परपराओं और रीति-रिवाजों से परिचित होने का अवसर मिलता है।

चंद्रभगा मेले में विभिन्न प्रतियोगिताएँ भी पर्यटकों  को आकर्षित करती हैं और उनका मनोरंजन भी करती है। मटका रेस, टग ऑफ वॉर, पगड़ी टिइंग, रंगोली मेकिंग, मवेशी प्रतियोगिताएं, मुच्छे बनाने की  प्रतियोगिता जैसी मशहूर प्रतियोगिताएं  सर्वश्रेष्ठ हैं।

झलरापतन के चंद्रभागा मेला झलावर से सिर्फ 6 किमी की दूरी पर है। झलरापतन  कोटा, बुंदी और जयपुर से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। झलवार एनएच -12 के जरिए गुजरता है। प्रमुख शहरों से यहाँ के लिए नियमित बसें भी उपलब्ध है। इसका निकटतम रेलवे स्टेशन रामगंज मंडी है जो सिर्फ 25 किलोमीटर की दूरी पर है। 2018 में चंद्रभगा मेले का आयोजन  03 – 05 नवंबर 2018

Chandrabhaga-Festival

Chandrabhaga-Festival

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *